Wednesday, May 16, 2018

Shortlisted : FICCI Publishing Awards

Miss Bandicoata Bengalensis is crossing her fingers. Why? Because the story of her adventures has been shortlisted for the FICCI Publishing Awards 2017 (under the 'Children's Book of the Year : Hindi' category).


मिस बैंडीकोटा बेंगालेन्सिस कोई मामूली भारतीय छछुंदर न थी। उसकी आँखें बहुत जादुई थीं, वैसी आँखें किसी और छछुंदर की नहीं थीं, और अपनी उन जादुई आँखों से वह सबकुछ देख लेना चाहती थी। हर दिन वह अपना खुदाई पिटारा बाँधबूंध तैयार करती। उसके इस पिटारे में होते – उसके गॉगल्स (धूप चश्मे), दूरबीन, खुर्दबीन (आतिशी कांच) और उसके चिपकू बैंडेज। वह कहती, “एक खोजी यात्री हर दम तैयार रहता है।” हर नये दिन नयी जड़ों, नयी पत्तियों और नये दानों वाली किसी नयी फसल वाले एक नये खलिहान की ओर वह एक नयी दिशा में वह खुदाई करती। वह लौट तो आती... लेकिन फिर किसी नयी खोह की खोज में... इस बार हमारी यह अनूठी खोजिन समुद्र तक जा पहुँची है। आप भी मिस बैंडीकोटा बेंगालेन्सिस के साथ सागर किनारे की उस टहल का मज़ा लें जिस दौरान वह अजीब-अजीब जन्तुओं के सम्पर्क में आती है।

Miss Bandicoata Bengalensis was not just any little Indian mole rat. She had magical eyes like no other mole rat and she wanted to see everything. Every night, she packed her explorer's kit: her sunglasses, binoculars, magnifying glass and of course, her favourite - a strip of sticker bandages. " An explorer is always prepared," she said. Every time she dug in a new direction and returned through a new burrow! This time our unlikely explorer has surfaced near the sea. Enjoy walk along the beach with her as she befriends a host of strange creatures.
If you have not met Miss Bandicoata Bengalensis or read about her adventures, this is the perfect time to catch up on them and send her some good luck.



Get your own copy of the book here.

blog comments powered by Disqus